Friday, June 28, 2013

Waqt ke saath

Is Waqt ke saath chalna gawaara nahi
Haar hi sahi agar aur koi chaara nahi

Pathar ki imaartein aur sang dil insaan
Isse khaufnaak koi aur nazaara nahin

Humne hathiyaaron ke saamne hathiyaar daal diye
Jo jeetega usse badaa koi bechaara nahi

Khisakte pahaad ubalti nadiya pighalti barf
Uske khafa hone ka isse badaa ishara nahin

Kuch der ruko baitho aur hisaab karo
Lauta do jo humne cheena hai jo humaara nahi

Sunday, June 16, 2013

A song still waiting

Written many songs,
Drowned in seas of emotions,
Putting my heartbeat into every word,
Mixed with laughter,
Drenched in tears,
Of happy moments,
And moments of fear,
Have dug deep into nights
without sleep,
Spoken to stars,
Discussed with dreams
Have stayed still like a placid lake
Swept many pebbles like a stream

But each time
Don't know what goes wrong
Have not been able to write that one Song
The song that would hit like a dart
A song that would touch your heart!!

Nahin hota

Har achi shuruaat ka ant acha nahi hota
Hans lo saath hai jab tak akhir tak har koi saath nahi hota

Mujhe kaash tajurbe ne kuch to seekhaya hota
Aaj mere dil pe phir se mera haath nahi hota

Dil ki khidkiyon ko darwaazon ko band rakho
Unme jhaankne ka har koi haqdaar nahi hota

Tajurbe se kisi ke kaash doosra seekh jaata
Dil tootne ka kissa baar baar nahi hota

Kisi ke mil jaane se kabhi manzil nahin milti
Aankhein khol kar chalte to ye gumaan nahin hota

Ae Khuda


Tere reham ki ab mujhko darkaar nahin hai
Ae Khuda tera ab mujhko aitbaar nahin hai

Teri rehmat ka bojh uthate main thak gaya
Tu jahaan bhi de de to sweekaar nahin hai

Jo dikhta hai in aankhon ko bas ek wahi sach hai
Tere dhoke ka to koi bhi aakaar nahin hai

Tere insaaf ke baare main padha hai aur suna hai
Jhooth hai ki bas der hai andhakaar nahi hai

Is janam main hi ilm ho gaya jahaan ke sach ka
Kisi aur janam ka mujhko intezaar nahi hai

Aye Kaash...

Aye kaash teri meri life aisi ho
Hum roye tere kaandhe pe
Tum mere saath hansti raho
Teri smile pe darling hum fida hon
Never tujhse hum judaa hon
Tere saath time ke wheel pe lag jaaye break
Har hansi pal ka hum karein retake
Har din double ho pyaar ka account
Love ka na karine hum kabhi cheque bounce
Jeeyein apni life hum hoke fearless
Na ho duniyadaari ka koi bhi stress
Jo aaye gham to USE karein masti ka duster
Main tera tu meri ban jaaye stress buster
Week main ek baar ho jam ke fight
Fir mana lein ek duje ko hokar tight
Jahaan bhi jaayen karein mehfil bright
Humse nikle always happiness ki light
Kaash ye story ka na kabhi ho the end
Life ke is  rule ko bhi hum kar lein bend
Life main kabhi na aaye blue waala Monday
Har night friday night har din ho Sunday
Tere mere beech main na ho kuch bhi wrong
Life guzarti rahe jaise melodious love song
Nasha karun bas tera na ho aur koi taste
Har waqt rahe available tere hothon ki cigarette
Likhe log humaari love story pe thesis
Ghoshit kar dein hum dono ko endangered species
Yash Chopra ki banein hum aakhri love story
Hollywood kare is humaari story ki chori
Har jawaan dhadkan ke liye hum ho kamaal
Box office ho ya pub machaaye hum dhamaal
Na life bhar humein ho kisi baat ki tension
Budhaape main bhi bharpoor mile pyaar ki pension

Thehre hue paani main

Thehre hue paani main patthar na phenk
Haath chod ke tu ab mud mud ke na dekh

Dil tootne ki koi na koi awaaz to hogi
Tu khade khade  yun tamaasha na dekh

Tera na hona mere aansoon ka sabab tha kabhi
Ab tu hansi sun meri khush mizaazi ko dekh

Dekha

Hans kar dekha aansoo bahaa kar dekha
Gham bhulaane ka har taur aazmaa kar dekha

Dil ki awaaz dil main dabi rahe mere
Chup rahe kabhi shor macha kar dekha

Meri to sakshiyat hi kuch aisi hai
Jo saksh mila usne rula kar dekha

Jo kiya maine sar-e-aam uska gawaah nahin
Jo na kiya woh sab ne mil kar dekha

Zid na karein

Har khwaayish se guzaarish hai poori hone ki zid na karein
Meri umeed ban ke rahein maksad bana loon zid na karein

Darakht ki parchaayeen par uska koi zor nahi chalta
Chaaon ki bas umeed karein har roz milegi zid na karein

Insaan mohabbat to kare toot kar lekin
Badle main pyaar hi mile is baat ki zid na kare

Dhalte hue sooraj ko kamzor jo samajhte ho
Har roz subah ko laaye is baat ki usse zid na karein

Gamkhaar ke ansoo ponchein roye to kandha de dein
apne ansoonon ko behne dein koi ponchein ye zid na karein

Jab bhi maine...


Jab bhi maine ibadat main sar jhukaya hai
Apne khuda ko khafa khafa paaya hai

Gham ka andhera gehraa raat lambi aur tanha hai
Khuhsi ki roshni ko bhi haadsaa paaya hai

Har woh sheh jisse ki bhaagte phire hum
Usi ko kisi na kisi mod pe khadaa payaa hai

Woh lamha jisme zindagi dhoondhi humne
Apni baahon main use dum todta paaya hai

Aazmaayish

Jis mitti ka bana hoon us mitti ki aazmayish hai
Ae zamaane  koi kasar na rakhna ye khwaayish hai

Dard mujhko tumhaari maar se kab hua hai raqeebon
Mere lab pe  aah to tere moonh pherne se aayi hai

Hathiyaar tumhaare paas woh saare hain bhi to kya
Ek nazar jo maar daale woh kahaan paayi hai

Thursday, June 6, 2013

Bewajah Sharaab

Bewajah jab sharaab hoti hai
Lajawaab hoti hai
Na gham ka na khushi ki koi dakhal hoti hai
Jab na koi justuju hoti hai
Na kuch khone ka dar
...
Jab sirf maye saath hoti hai
Woh shaam kuch aur hoti hai

Ilzaam jab na uspe koi hota hai
Jab nasha na koi bojh dhota hai
Jab na koi kuch yaad karne ko peeta hai
Na koi bhoolne waala kissa hota hai
Jab sharaab koi dawaa nahin sirf sharaab hoti hai
lajawaab hoti hai

Monday, August 20, 2012

कहाँ गए?

दो शब्द कह कर कहाँ गए?
इक झलक दिखा कर कहाँ गए?
मैं एक पुराने सितार सा कोने में पड़ा था
छेड़ कर मेरे तारों को कहाँ गए ?

एक उम्मीद जगा कर कहाँ गए ?
सपने दिखा कर कहाँ गए ?
में ठहरे हुए पानी सा लेटा हुआ था
एक पथ्थर गिरा कर कहाँ गए?

तेरे इश्क में!!

मिली मायूसी,कभी तन्हाई
कभी बेरुखी, कभी बेवफाई
हुआ सुरूर, हुए मगरूर
हुए बद्नाम,कभी मशहूर
कभी चले,कभी रुके
कभी डूबे,कभी उभरे
झूठे वादे, कई इरादे
कोई निशानी,कितनी परेशानी
कभी इंतज़ार, कभी तलाश
मिली मय, रही प्यास
कभी सिमटे, कभी बिखरे
ढूँढा खुदको, मिले टुकड़े
कभी सोचे, कभी समझे
कई जस्बात, कितने खर्चे
हुई इन्तेहा, सब लुटा
खाली दिल, मेरा रहा

तेरे इश्क में!!

Sunday, August 19, 2012

रूह की कब्

किसे कहूं हाल-इ-दिल, कौन समझेगा?
किसे दिखाऊँ ज़ख्म दिल के, मरहम कौन करेगा?
इस दास्ताँ को मेरी कौन पढ़ेगा?

हसीन यादो का
जो सज न सके उन ख़्वाबों का
जो किये न कभी उन वादों का
ज़माने से टकराने के इरादों का
क़त्ल कर आया हूँ
उस कहानी को अभी अभी
दफ़्न कर आया हूँ

दिल मेरा अब जैसे रेगिस्तान है
कई दफन जस्बातों का कब्रिस्तान है
पर मौत पूरी तरह आई कहाँ है
हर बात पे डाल दी मिट्टी मग़र क्म्भक्त
उम्मीद जवां है
उम्मीद की तुम कभी आओगी
मेरी रूह की कब्र पर एक फूल चढ़ा जाओगी!!

** ये पढ़कर वो बोले
की हममे तो दफनाया नहीं जलाया जाता है?
रूह दफ्न है तुम शरीर जला देना !!

तूने

तूने ही दुनिया बनायी
तूने ही इंसान
इंसानों ने दुनिया को बांटा
बनाया जंग का मैदान
नज़रबंद किया तुझको
मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, गिरिजाघर
बनाये तेरे कितने मकान
बाहर झाँक लड़ रहा है अब
लेकर तेरा नाम !

Tuesday, August 7, 2012

अपने दिल की न कर सकूं

अपने दिल की न कर सकूं
ऐसे क्यूँ है हालात?
क्यूँ जुबां तक नहीं आती
दिल कि कोई भी बात?
क्यूँ पत्थर हो गए हैं
पिघलते नहीं जज़्बात?
इक उम्र सी लगती है
पल में गुज़रती थी जो रात?

इन सवालों में घिरा हूँ
मिलता नहीं क्यूँ कोई जवाब?

क्यूँ?

कई बार खुदसे मैं ये सवाल करता हूँ
क्यूँ तुमसे मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ
क्या है ऐसा तुम में जो मैं दीवाना हो गया हूँ
क्यूँ अपने आप से यूँ बेगाना हो गया हूँ 

क्यूँ ये तमन्ना है की आसमान से
तारे तोड़ तुम्हारी झोली मैं डाल दूं
क्यूँ ये आरज़ू की फूलों से तुम्हारी राहें सजा दूं 
कई बार खुदसे मैं ये सवाल करता हूँ
क्यूँ तुमसे मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

क्यूँ जब भी मौसम बाघों मैं फूल खिलाता है
मुझे तुम्हारा मुस्कुराना याद आता है
क्यूँ जब भी बसंती हवाएं आती हैं
साथ अपने तुम्हारी खुशबू लाती है 
क्यूँ जब भी चौदव का चाँद उपक निकलता 
मुझसे उसमे तुम्हारा चेहरा दीखता है
क्यूँ हर शाम तुम्हारे सपने दिखाती है
हर सुबह तुम्हारी आस जगाती है
कई बार खुदसे मैं ये सवाल करता हूँ
क्यूँ तुमसे मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ ।

क्यूँ हर रंग तुम्हारे रंग मैं रंगा हुआ लगता है
क्या ये सच है की तुम्हारी इज़ाज़त से इन्द्रधनुष निकलता है?
क्यूँ आजकल वक़्त बेवक्त ये सावन बरसता है
देखो तुम्हारे स्पर्श को आसमान भी तरसता है
क्यूँ ये कोयल इतने मधुर गीत गाती है
शायद अपने संगीत  से तुम्हे लुभाना चाहती है
क्यूँ हर अमावास को वो चाँद छिप जाता है
शायद मेरे महबूब वो तुमसे शर्माता है
कई बार मेरी धड़कन मुझसे सवाल करती है
क्यूँ तुमको देख इतनी जोर से धड़कती है

क्या कहें जबसे तुमसे मोहब्बत हुई है
न जाने कहाँ से इतनी हिम्मत मिल गयी है
कल तक जो न था मंजिल का दूर तक नज़ारा
अब ढूँढने लगा हूँ मझधार में किनारा
क्यूँ मुझको तुमपे इतना ऐतबार है
तुम्हारे इकरार को ये दिल बेक़रार है
न जाने क्यूँ मुझे तुम से इतना प्यार है

इन मोहब्बत की गलियों में दीवानों सा भटकता हूँ
हर कदम हर मोड़ पे में तुम्हे ढूंढता हूँ
इन उल्फत की राहों मैं इस कदर खो गया हूँ
तुमसे वफ़ा की चाहत मैं खुदसे बेवफा हो गया हूँ
तो क्या अगर मुझपे हँसता ज़माना आज है
मुझे फिर भी अपनी दीवानगी पर नाज़ है
पर बार बार में खुदसे ये सवाल करता हूँ
क्यूँ तुमसे में इतनी मोहब्बत करता हूँ 






Saturday, August 4, 2012

तू जब भी मेरे साथ होगा

तू जब भी मेरे साथ होगा
ज़माने को ऐतराज़ होगा 
हम हँसे तो बनेंगे अफ़साने
बेवफाई का हमपे इलज़ाम होगा

जुदा कर अश्कों में डुबो दे हमको
यही अब ज़माने का काम होगा
कोई झांकेगा ना अपने गिरेबान में
तेरे मेरे गिरेंबान पे हाथ होगा

इनको कुछ ना कहेंगे हम दोनों
यही अपना इनसे इन्तेकाम होगा

खता

तुझसे मोहब्बत की खता हो गयी
सारी काएनात पे फ़तेह हो गयी
तुझसे वादा किया मैंने वफ़ा का
तेरी शिकायत की वजह हो गयी 

तेरी जुस्तजू में

तेरी जुस्तजू में मुझे क्या मिला
इश्क की इन्तहा मिली
ग़म का सिलसिला मिला

तेरी आरज़ू में मुझे क्या मिला
तड़पते हुए दिन मिले
रातों को जागना मिला 

तेरी बज़्म में मुझे क्या मिला
तेरे हुस्न की रौनक मिली
मेरे दिल का अन्धेरा मिला

तेरी हसरत में मुझको क्या मिला
हर सांस आखरी मिली
दिल थमा थमा मिला


मुझ बोल दो मेरे सनम

मुझ बोल दो मेरे सनम
दर से तेरे जाऊं कहाँ 
कोई रास्ता दीखता नहीं 
मंजिल का न कोई निशाँ 

चल लिया अंगारों पर 
दरिया का कोई दर नहीं 
तू मिले एक पल भी तो 
डूब जाने की फिकर नहीं 
मुझे बोल दो उस पार बस 
मिलोगी मुझको तुम वहीँ 

अब तलाश बस हर वक़्त है 
कोई रास्ता दीखता नहीं